Gathering Shadows, Shamsher Bahadur Singh

On April 18, 2015 by admin

Lakshmidhar Malviya

(Gathering Shadows, Shamsher Bahadur Singh. Years covered: 1961-1975)
__________________________________________________

ईमान गड़बड़ी में है दिल के हिसाब में

लिक्खा हुआ कुछ और मिला है किताब में

a

(Top Floor, Just Fit, 1961)

 ***

कठिन प्रस्‍तर में अगिन सूराख।
मौन पर्तों में हिला मैं कीट।

b

(Shamsher, the tenant, peeping: barsati above Just Fit Tailors, Allahabad, 1961]

***

आज फिर काम से लौटा हूँ बड़ी रात गए

ताक़ पर ही मेरे हिस्से की धरी है शायद

c

(Just Fit Tailors, Bahadurganj, Allahabad, 1961 )

***

उसे बदलियों में भी पहचान लोगे
कि उस चांद-से मुँह पे’ हाला पड़ा पड़ा है
वो जुल्फ़ों में सब कुछ छुपाए हुए हैं
अंधेरा लपेटे उजाला पड़ा है

d
d
d

(Premlata Verma and Shamsher, 1961)

***

मेरी बाँसुरी है एक नाव की पतवार –
जिसके स्‍वर गीले हो गये हैं,
छप्-छप्-छप् मेरा हृदय कर रहा है…
छप् छप् छप्व

ee

(Neighbourhood, Just Fit, 1961)
***

तू मेरे एकान्त का एकान्त है

मैं समझता था कि मेरा तू नहीं ।

(Shamsher, Sketch : Malayaj, 1961)
***

जी को लगती है तेरी बात खरी है शायद

वही शमशेर मुज़फ़्फ़रनगरी है शायद

(Allahabad, 1962)
***

सूरज
उगाया जाता
फूलों में:

यदि हम
एक साथ
हँस पड़ते।

h

(With Shrimati and Shri Naresh Mehta, their year old son Babul, an unnamed person and Shamsher, 1961)
***

वरूणा के किनारे एक चक्रस्तूप है
शायद वहीं विश्व का केंद्र है
वहीं कहीं
ऐसा सुनते हैं।

i

(Sarnath: the dharmshala where Shamsher often lived during the first half of the 1960s)
***

मैं समाज तो नहीं; न मैं कुल

जीवन;

कण-समूह में हूँ मैं केवल

एक कण ।

(Delhi, 1971)
***

दिल्‍ली बस-स्‍टैंड से ही कार्ड मिला था मुझको।
काश फिर लिखते – ‘वही है जो गिला था मुझको1।’
ताकि हम कहते कि ‘है जुल्‍म सरासर अब तो!’

k

(Delhi, 1971)
***

काल,
तुझसे होड़ है मेरी: अपराजित तू-
तुझमें अपराजित मैं वास करूं ।

(Delhi, 1961)

***

कहाँ है
वो किताबें, दीवारें, चेहरे, वो
बादलों की इन्द्रधनुषाकार लहरीली
लाल हँसियाँ
कहाँ है ?

(Delhi 1971)
***

हम अपने खयाल को सनम समझे थे,
अपने को खयाल से भी कम समझे थे!
होना था- समझना न था कुछ भी, शमशेर,
होना भी कहाँ था वह जो हम समझे थे!

(Delhi, 1971)
***

वाम वाम वाम दिशा,
समय साम्यवादी।

o

(With dear friend Mugisuddin Faridi and Shobha Singh, Delhi 1971)
***

एक नीला आईना
बेठोस-सी यह चाँदनी
और अंदर चल रहा हूँ मैं
उसी के महातल के मौन में ।

(Delhi, 1975)
***

[This set of photographs were first published in Jalsa, 2011. HUG is grateful to Asad Zaidi for making the volume available.]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *